सोमवार, 26 दिसंबर 2005

पिता का आशीर्वाद

एक बार एक युवक अपनी कॉलेज की पढ़ाई पूरी करने वाला था।  उसकी बहुत दिनों से एक शोरूम में रखी स्पोर्टस कार लेने की इच्छा थी।  उसने अपने पिता से कॉलेज की पढ़ाई पूरी होने पर उपहारस्वरूप वह कार लेने की बात कही क्योंकि वह जानता था कि उसके पिता उसकी इच्छा पूरी करने में समर्थ हैं।  कॉलेज के आखिरी दिन उसके पिता ने उसे अपने कमरे में बुलाया और कहा कि वे उसे बहुत प्यार करते हैं तथा उन्हें उस पर गर्व है।  फिर उन्होंने उसे एक सुंदर कागज़ में लिपटा उपहार दिया ।  उत्सुकतापूर्वक जब युवक ने उस कागज़ को खोला तो उसे उसमें एक आकर्षक जिल्द वाली भगवद् गीतामिली जिसपर उसका नाम भी सुनहरे अक्षरों में लिखा था।  यह देखकर वह युवक आगबबूला हो उठा और अपने पिता से बोला कि इतना पैसा होने पर भी उन्होंने उसे केवल एक भगवद् गीतादी।  यह कहकर वह गुस्से से गीता वहीं पटककर घर छोड़कर निकल गया।

बहुत वर्ष बीत गए और वह युवक एक सफल व्यवसायी बन गया।  उसके पास बहुत धन-दौलत और भरापूरा परिवार था।  एक दिन उसने सोचा कि उसके पिता तो अब काफी वृद्ध हो गए होंगे।  उसने अपने पिता से मिलने जाने का निश्चय किया क्योंकि उस दिन के बाद से वह उनसे मिलने कभी नहीं गया था।  अभी वह अपने पिता से मिलने जाने की तैयारी कर ही रहा था कि अचानक उसे एक तार मिला जिसमें लिखा था कि उसके पिता की मृत्यु हो गई है और वे अपनी सारी संपत्ति उसके नाम कर गए हैं।  उसे तुरंत वहाँ बुलाया गया था जिससे वह सारी संपत्ति संभाल सके।

वह उदासी और पश्चाताप की भावना से भरकर अपने पिता के घर पहुँचा।  उसे अपने पिता की महत्वपूर्ण फाइलों में वह भगवद् गीताभी मिली जिसे वह वर्षों पहले छोड़कर गया था।  उसने भरी आँखों से उसके पन्ने पलटने शुरू किए।  तभी उसमें से एक कार की चाबी नीचे गिरी जिसके साथ एक बिल भी था।  उस बिल पर उसी शोरूम का नाम लिखा था जिसमें उसने वह स्पोर्टस कार पसंद की थी तथा उस पर उसके घर छोड़कर जाने से पिछले दिन की तिथि भी लिखी थी।  उस बिल में लिखा था कि पूरा भुगतान कर दिया गया है।  

कई बार हम भगवान की आशीषों और अपनी प्रार्थनाओं के उत्तरों को अनदेखा कर जाते हैं क्योंकि वे उस रूप में हमें प्राप्त नहीं होते जिस रूप में हम उनकी आशा करते हैं।

6 टिप्‍पणियां:

बेनामी ने कहा…

This is really a very touching story. This reminds us that parents are always our well wishers, its just that we dont see it at that point of time and realize it only later sometimes when its too late.....Anshu

travisharolds4501 ने कहा…

I read over your blog, and i found it inquisitive, you may find My Blog interesting. My blog is just about my day to day life, as a park ranger. So please Click Here To Read My Blog

Kalicharan ने कहा…

Typical desi guilt ridden story. What was the goal of writing this story? There was nothing thought provoking about it, nor was it entertaining.

Raman ने कहा…

Really a very touching story. Child understand this only when the time is lost. Only people who have heart are capable of understanding it. (note for Kalicharan)This is the main aim of the author, still there is humane inside everyone.

Keep it up

Raman

Greg Goulding ने कहा…

प्रिय शालिनी,

यह कहानी बहुत अच्छी है लेकिन मुझे बहुत दिलचस्प है कि अमरीका में हमारेपास वहीं कहानी भी है। बहुत ख़ुशी है कि वह दुनिया की कहानी भी है कि वह बौत महत्वपुर्ण कहानी है।

बेनामी ने कहा…

NSU - 4efer, 5210 - rulez