सोमवार, 29 मई 2006

नज़रों का धोखा!

अगर अपने दिमाग और आँखों को भ्रम में डालना चाहते हैं तो इन तस्वीरों को गौर से देखिए। ये हिलती हुई प्रतीत होती हैं पर हैं नहीं।

























और ये देखिए और बताइए कि ये रेखाएँ समानान्तर हैं या नहीं।










1. इस तस्वीर के मध्य में चार बिंदुओं को 30 सेकंड तक देखिए।
2. अब अपने पास की किसी दीवार पर देखिए।
3. क्या दिखा आपको? या कौन दिखा आपको?

5 टिप्‍पणियां:

Pankaj Bengani ने कहा…

वाह चमत्कार!! जीसस क्राइस्ट स्वयं दिखे. अहा. मै धन्य हो गया. :-)

उन्मुक्त ने कहा…

यह नजरों को धोका क्यों होता है?

Udan Tashtari ने कहा…

भगवान स्वंयम पधारे, अब तो मै भी डी वेंसी कोड के विरोध मे नारा लगाऊँगा..:)

समीर लाल

Sagar Chand Nahar ने कहा…

शायद मैं नास्तिक हुँ इसलिये भगवान ने मुझे दर्शन नहीं दिये, समीर भाई एवं पंकज भाई की तरह

Goldy Lukka ने कहा…

Hi,

can you please activate feeds on your site? in blogger you can activate atom feeds. That way we can keep seeing updates on your site.

Thanks,
Goldy.